Monday, December 26, 2011

राधा ............





राधा तो इक धारा है 

जो आज भी बहती है 

तेरे मेरे चितवन के ,

गहरे सागर में रहती है ......
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       

5 comments:

मनीष सिंह निराला said...

बहुत ख़ूबसूरत...!
पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको !
मेरे पोस्ट पे आपका हार्दिक स्वागत !

Anju said...

शुक्रिया मनीष जी ,पहली बार पढ़ रहे है ...इस ब्लॉग के पहले पाठक भी बन गये ....इसलिए आभार के साथ स्वागत है .....लिंक्स इन पर भी स्वागत http://anjuananya.blogspot.com
http://amritaimroz.blogspot.

धनपत स्वामी said...

वाह...मर्म लिये भाव....

Tejkumar Suman said...

भावमय रचना।

Tejkumar Suman said...

भावमय रचना।